सिरिज़ा सरकार का सामाजिक सुरक्षा पर हमला शुरू

Posted on August 1, 2015

0



Hindi Translation of Greek Trade Union Front PAME (All Workers Militant Front) statement — Information On The Attack of the SYRIZA Government Against Social Security–

सिरिज़ा सरकार ने लगभग सारे बुर्जुआ दलों की मदद से सामाजिक सुरक्षा क्षेत्र में नई मजदूर विरोधी कदम उठाना शुरु कर दिया है. वो इसी तरह के अतिरिक्त अधिनियम/प्रस्ताव को पारित करना जारी रखेगी,  जिनका उद्देश्य जो थोडे सामाजिक सुरक्षा बची है उसे ख़तम करना, तथा निजी  बीमा मॉडल जिसमें व्यक्ति का योगदान उसके नौकरी पर आधारित होगा. यह यूरोपियन यूनियन की पेंशन पर ‘ग्रीन बुक’ में लिखित  नियम पर आधारित है.

यह तथाकथित गैर-वेतन(मज़दूरी) कटौती बड़े पूँजी कि पिछ्ले कई वर्षों से मांग थी और अभी भी है.

सरकार और पूंजीपति वर्ग नें जल्दी से जल्दी यूरोपियन यूनियन के स्तर पर हुई कई वर्ष पहले के निर्णय  को लागू करने का फैसला कर लिया  है,  इस फैसले के तहत सामाजिक सुरक्षा प्रणाली की जगह एक ऐसी व्यवस्था स्थापित की जायेगी जिसमे पेंशन दान की तरह होगा, और इसमें राज्य और मालिकों को उनके योगदान से पूरी तरह से निजात मिल जायेगा। वे एक ऐसे सामाजिक बीमा प्रणाली की तैयारी कर रहें हैं, जहाँ बीमा धारक अपने रिटायरमेंट के 67 के उम्र बाद भी नौकरी की भीख मांगेगे, ताकि वह जीने के लिये न्यूनतम पेंशन की आवश्यकता को पूरा कर सके।

अभी तक इन प्रावधानों को लागू सिर्फ एक ही कारण से नहीं किया जा सका था, वह था वर्ग आधारित ट्रेड यूनियन का प्रतिरोध आन्दोलन।

अभी तक  संकट के दौरान भी हमने जिन (सामाजिक सुरक्षा) व्यवस्था को हमने बचा कर रखा था उसे यह “वाम” सरकार ने ख़तम कर दिया, जिसका जनहित पर दुखद परिणाम पड़ा है।

यह संगठित होने और लड़ने का समय है। निराशा और हार के लिये कोई जगह नहीं है। यह समय है मजदूर वर्ग के प्रतिकार का। अपनी महाशक्ति को जांचने का, वह महाशक्ति जो अभी तक इस यूरोपियन यूनियन से टकराव के बिना सरकारी परिवर्तन पर उमीदें लगा रखी थी।

सामाजिक सुरक्षा पर अबतक पारित कर दिये गए कानून

  • 1 जुलाई 2015 सप्लीमेंट्री (पूरक) पेंशन में 6% कटौती और मुख्य पेंशन में 2% की कटौती
  • राज्य द्वारा न्यूनतम गारेंटी कि समाप्ति, जो लोग 67 वर्ष की आयु से पहले रिटायर कर गए हैं उनके पेंशन में 60% तक कि कटौती. इस कदम से महिलायें, मातायें और विकलांगता पेंशन पाने वाले, स्वरोजगार व्यक्ति सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे
  • 1 जनवरी २०१६ से २०२१ तक सभी राज्य द्वारा वित्तीय सहायता पर रोक।
  • वे लोग जो 1.1.२०१५ के बार रिटायर किये हैं उनके मुख्य पेंशन की गणना नए तरीके से करना, इसका मतलब जो 67 वर्ष के पहले और 1 जुलाई २०१५ के बाद रिटायर किये हैं उनके पेंशन में करीब ३०% से ५०% तक कि कटौती।

 

कानून जो पारित होने वाले हैं

  • ३००,००० लोगों के रिटायरमेंट कि अवधी 1 से १२ साल तक बढ़ाना
  • अगले 5 सालों में जल्दी रिटायरमेंट (early retirement) पर 80% तक की कटौती

 

अभी और जो प्रस्ताव अक्टूबर २०१५ तक पारित किये जायेंगे उनमे ट्रेड यूनियन विरोधी सुधार और हड़ताल करने के अधिकार को ख़तम करना तथा  मजदूरों कि व्यापक स्तर पर छटनी शामिल है।

 हमें  बर्दाश्त नहीं है, और ना ही हम इसकी इजाज़त देते हैं – हम उन्हें उखाड़ फेंकने के लिए संगठित हो रहे हैं!

केवल संगठित वर्ग आधारित संघर्ष इन नये और पुराने प्रस्ताव और मजदूर विरोधी कानून को ख़तम कर सकता है।

 हमें इस दरिद्रता भरे भयंकर दुस्वापन को ख़तम करना होगा~केवल वर्ग संघर्ष में ही सच्ची उम्मीद है। हम जो भी पेंशन और स्वस्थ्य सेवा में अधिकार बचे हैं उनकी रक्षा करनी होगी। हम लड़ेंगे अपने हुए नुकसान को वापिस पाने के लिये और पेंशन और सामाजिक हक़ को आज के स्तर पर लाने के लिये। हर कार्यस्थल पर मजबूत और बड़ा ट्रेड यूनियन, जो कि मजदूरों को एकत्रित और संगठित करेगा, वो एक मज़बूत संयुक्त मोर्चा तैयार करेगा मालिकों, ग्रीस की सरकार और ई.यू के खिलाफ। सामाजिक भागीदारी और मालिकों द्वारा पोषित वर्ग सहयोग की बात करने वाले दलाल ट्रेड-यूनियनवादीयों के ज़हरीले प्रभाव के खिलाफ संघर्ष करना. सामाजिक गठबंधन को मज़बूत करना। सामाजिक सुरक्षा, पेंशन और स्वास्थ्य सुविधा स्वरोज़गार और छोटे किसानों का भी मसला है।

 यह हमारी प्रतिक्रिया है। मजदूर विरोधी  ‘समझौतों के खिलाफ हमारा गठबंधन। कोई फर्क नहीं पड़ता कि वे कितने ही कानून बनाये, केवल जिस कानून के प्रति हमारी निष्ठा है, वह है “जो मजदूरों के लिए न्यायसंगत है”!

 हमें अपने शक्तियों को संगठित करते हुए, यह मांग करना हैं कि जो हमारा है, वह जनता की ज़रूरतों को पूरा करने के लिये है, ना कि (पूंजीपति) एकाधिकार के मुनाफे के लिये.

http://pamehellas.gr/index.php/en/announcements/5291-information-on-the-attack-of-the-syriza-government-against-social-security

Translated from English to Hindi by Damodar

Advertisements